July 27, 2021

राजधानी को सुरक्षित रखने के लिए सख्त नियम बनाने की शुरुआत, जहां दो मरीज मिलेंगे, वहीं बन जाएगा माइक्रो कंटेनमेंट जोन

Spread the love

तीसरी लहर की आशंका के साथ प्रशासन ने राजधानी को सुरक्षित रखने के लिए सख्त नियम बनाने की शुरुआत कर दी है। पहला नियम यह बनाया गया है कि अगर अब कहीं भी दो से ज्यादा कोरोना एक्टिव मरीज एक साथ मिलते हैं, तो उस छोटे से हिस्से को ही माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया जाएगा।

वहां कंटेनमेंट जोन के नियम सख्ती से लागू होंगे। रायपुर कलेक्टर ने यह आदेश सोमवार को जारी भी कर दिया है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग ने नई गाइडलाइन भेजी है, इसी आधार पर कलेक्टर सौरभ कुमार ने माइक्रो कंटेनमेंट को नए सिरे से पारिभाषित करते हुए आदेश जारी किया है।

मरीजों वाली जगह को कंटेनमेंट जोन घोषित करने और वहां सभी तरह की जरूरी कार्यवाही व व्यवस्था के लिए एडीएम को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। ऐसे जोन में लोगों की मदद के लिए अफसरों की भी तैनाती की जाएगी। राजधानी में इस साल लॉकडाउन के दौरान यानी अप्रैल से मई तक 100 से ज्यादा कंटेनमेंट जोन बनाए गए थे। लेकिन बाद में कोरोना मरीजों के ठीक होने के बाद धीरे-धीरे सभी कंटेनमेंट जोन खत्म कर दिए गए थे। अब फिर से नए कंटेनमेंट जोन बनाने के लिए सभी तैयारियां शुरू कर दी गई है।

इसके लिए नगर निगम, वन और लोक निर्माण विभाग के अफसरों की भी ड्यूटी लगाई जा रही है। अफसरों के नाम और नंबर जल्द ही सार्वजनिक कर दिए जाएंगे। जहां कंटेनमेंट जोन बनेंगे वहां के संबंधित अफसरों के नाम और मोबाइल नंबर मुख्य द्वार पर चस्पा किए जाएंगे। इससे वहां के लोगों को किसी भी तरह की जरूरत हो तो वहां के संबंधित अधिकारियों से संपर्क कर सकते हैं।

कंटेनमेंट अक्सर नाम के ही
राजधानी के कंटेनमेंट जोन को लेकर अम लोगों ही नहीं, सरकारी अमले की भी बड़ी लापरवाहियां सामने आ चुकी हैं। दूसरी लहर में जहां पांच से ज्यादा कोरोना मरीज मिल रहे थे. वहां कंटेनमेंट जोन बनाया जा रहा था। लेकिन इसके नाम पर सिर्फ बांस-बल्लियां बांधकर ही खानापूर्ति होने लगी थी। कंटेनमेंट जोन में लोग आराम से आना-जाना कर रहे थे, कई जगहों पर तो बैरिकेड भी खुद हटा दिए थे। इस वजह से इस बार कंटेनमेंट जोन में सख्ती की तैयारी है। जो लोग इन नियमों का पालन नहीं करेंगे, उन पर भी वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

बलौदाबाजार के डॉक्टर की कोरोना से मौत
बलौदाबाजार के जिला अस्पताल के कोविड वार्ड में ड्यूटी कर डॉ. शैलेंद्र साहू की कोरोना से मौत हो गई है। दरअसल, रविवार रात को ड्यूटी के दौरान उन्होंने एंटीजन टेस्ट करवाया था] जिसमें उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई। कोरोना वार्ड में राउंड लगाने के बाद वो आराम करने के लिए रेस्ट रूम में चले गए] जिसके बाद साेमवार की सुबह उनकी मौत हो गई।