July 27, 2021

फाइजर व जॉनसन एंड जॉनसन के पास नहीं है भारत का लाइसेंस, आवेदन का काम है बाकी

Spread the love

भारत में कोरोना वैक्सीन के लाइसेंस के लिए फाइजर (Pfizer) व जॉनसन एंड जॉनसन (Johnson and Johnson) को अभी लाइसेंस के लिए आवेदन करना बाकी है। इससे पहले अमेरिका ने कहा था कि भारत में कानूनी अड़चनों के कारण कोरोना वैक्सीन देने में देरी हो रही है। जैसे ही भारत की ओर से ग्रीन सिग्नल मिलेगा वैसे ही अमेरिका से वैक्सीन की खेप को रवाना कर दिया जाएगा।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में 16 जनवरी से जारी वैक्सीनेशन अभियान के तहत अब तक कुल वैक्सीनेशन का आंकड़ा 39,13,40,491 हो गया है जिसमें से बीते 24 घंटे में 34,97,058 वैक्सीन लगाई गईं। वहीं भारत में 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 41,806 नए मामले आए और 581 लोगों की मौत हो गई। इसके बाद दे श में अब तक कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 3,09,87,880 हो गई और मरने वालों का कुल आंकड़ा 4,11,989 है। वर्तमान में देश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 4,32,041 है।

पिछले माह फाइजर के CEO अल्बर्ट बौर्ला (Albert Bourla) ने कहा था कि भारत में कोरोना वैक्सीन की मंजूरी को लेकर डील अंतिम चरण में है। केंद्र सरकार ने भी कहा था कि फाइजर के साथ जल्द ही डील संपन्न होने वाली है। फाइजर को अमेरिका में किशोरों के लिए भी अनुमति मिल गई है। इसके साथ ही अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन से मंजूरी प्राप्त इस वैक्सीन को आपात इस्तेमाल के लिए अन्य पश्चिमी नियामकों ने मंजूरी दे दी है।

रॉयटर्स द्वारा अप्रैल में प्रकाशित एक रिपोर्ट में बताया गया था कि एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सरकार के सीनियर स्वास्थ्य अधिकारी (नीति आयोग) विनोद कुमार पॉल ने कहा, ‘हम पूरी उम्मीद के साथ फाइजर, मॉडर्ना, जॉनसन एंड जॉनसन व अन्य वैक्सीन निर्माता जितनी जल्द हो सके भारत आएं।’ पॉल ने कहा था, ‘अभी देश में कोवैक्सीन, कोविशील्ड, स्पुतनिक V और मॉडर्ना है। जल्द ही हम फाइजर के साथ भी डील कर लेंगे।’